शुक्रवार, 24 जनवरी 2014

तुम्हारे आने से


तुम्हारे जन्मदिन के अवसर पर कुछ 'मूक' शब्द … 


तुम्हारे आने से,
जाने हर पल कैसे …   

बूँदों में बरसते हुए, 
चंचल चितवन से, 
जिंदगी की बहारों में,
किरणों सी आलिंगन पाकर, 
कुछ ऐसी बिखरी   … 

मानों, हज़ार चाँद लग गए हो, 
और निशि गंधा रूमानी सी निखरी  … 

- निवेदिता दिनकर 
  २१/०१/२०१४

6 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. Shikha, तुम्हारा आभार अगर रचना तुम्हें कोमल एहसास दे पायी, तो सार्थक

      हटाएं
  2. बहुत खूबसूरत!!!
    कितना कुछ कह डाला इन मूक शब्दों ने...

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनु, अपार धन्यवाद, आपका आना हमें बहुत भाता है ।

      हटाएं
  3. स्वप्न लोक मुबारक निवेदिता.. :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Raju, तहे दिल से शुक्रिया, सादर

      हटाएं