बुधवार, 23 मई 2018

प्रश्न




पता है ,
न तो तुम में हमारे जैसे है अदब , न कायदा
न ही ज्ञान , न सलीका ,
न हुनर , न सभ्यता ,
कैसे हो इतने अलहदा ?
कहाँ से लाये मनुष्योचित अवस्था ?
शायद,
तुम मेरे प्रश्न का जवाब न दे पाओ
या
शायद
हम अपने प्रश्न का जवाब न सुन पाए ...
- निवेदिता दिनकर
  २२/०५/२०१८
सन्दर्भ : यह है मेरी बेटी 'बनी ', जो एक जर्मन शेफर्ड है | इतनी मासूम और प्यारी,
उसे  तो बिना वजह प्यार करने का मन करता है |  
कहने को श्वान , गुस्से पर गज़ब का कण्ट्रोल , घर पर नहीं रहूँ , तो खाना पीना छोड़ देती है | 
उसके प्रति यह सवाल , रचना के रूप में , असल में मुझे अपने से है | 

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (25-05-2018) को "अक्षर बड़े अनूप" (चर्चा अंक-2981) (चर्चा अंक 2731) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय / आदरणीया आपके द्वारा 'सृजित' रचना ''लोकतंत्र'' संवाद मंच पर 'सोमवार' २८ मई २०१८ को साप्ताहिक 'सोमवारीय' अंक में लिंक की गई है। आमंत्रण में आपको 'लोकतंत्र' संवाद मंच की ओर से शुभकामनाएं और टिप्पणी दोनों समाहित हैं। अतः आप सादर आमंत्रित हैं। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/



    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह मूक अबोले से प्रश्न या स्वयं से ।
    सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. इंसान अब मनुष्य कहाँ रहा जो मनुशियता की बात सुन सके .. ये ख़ुद से किया प्रश्न है जिसका जवाब नहीं किसी के पास .।।

    उत्तर देंहटाएं