बुधवार, 25 जनवरी 2017

बिछोह से प्रेम



हाँ, मुझे प्रेम पसंद है 
 
प्रेम में पड़ना भी 
और
 प्रेम को पढ़ना भी 
लेकिन 
सबसे ज्यादा पसंद 
 बिछोह

उस
'बिछोह' से 
शिद्दत से प्रेम है मुझे 

क्योंकि 
इसकी  
महक और चहक
धमक और गमक    
वेग और आनंद 
गूँज और गाँठ 

मुझे 
मीरा मय  
कर जाते है ... 

- निवेदिता दिनकर   
  

खूबसूरत शाम, ताज और एक दीवानी 

तस्वीरों में क़ैद करने की गुस्ताख़ी मेरी 









कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें