बुधवार, 11 दिसंबर 2013

यादों का पुलिंदा



न जाने क्यों,
आज फिर, 
गुलाबी ठण्ड ने,
कस्तूरी की मादकता ओढे ,
दोबारा दस्तक दिया है ...
कि ...
जैसे,
हर आहट में 'तुम' हो । 
हर आहट में 'तुम' हो ॥ 

वह बारिश की चंचल बूंदे ,
मुझे अनदेखा कर … 
तुमसे पिघल  जाना … 
मेरा रूठना, तुम्हारा मनाना, 
और … 
मेरा रोम रोम का खिल जाना  …   
जैसे,
हर चाहत में 'तुम' हो । 
हर चाहत में 'तुम' हो ॥  

वह सर्दी  की गर्माहट,  
हाथों का ठंडा पड़ना … 
आँखों में शरारत  
और 
मंद मंद मुस्काना … 
जैसे,
हर गुदगुदाहट में 'तुम' हो ।   
हर गुदगुदाहट में 'तुम' हो ॥ 

वह तपती गर्मी की शीतलता,
लू के थपेड़े ,
संग चलकर ,
मंज़िल की  ख्वाइश 
और 
बार बार यहीं ख्वाइश  … 
जैसे 
हर सरसराहट में 'तुम' हो । 
हर सरसराहट में 'तुम' हो ॥  

- निवेदिता दिनकर   
  ११ /१२ /१३  

18 टिप्‍पणियां:

  1. ' गुलाबी ठण्ड ..चाय की प्याली और तुम '...कुछ ऐसे ही एहसास से भर गयी ये रचना
    वाह ......

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुछ मेरे एहसासों स्थान देने के लिए आभार, Shikha

      हटाएं
  2. भला हो ठंड का जो ऐसी ऊष्मायन सी रचना मिली-- सुंदर प्रस्तुति निवेदिता.. :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ऊष्मायन सी फीडबैक देने के लिए शुक्रिया राजु ...

      हटाएं
  3. उत्तर
    1. … मैं बहुत प्रोत्साहित हूँ , संजय जी

      हटाएं
  4. काफी उम्दा प्रस्तुति.....
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (14-01-2014) को "मकर संक्रांति...मंगलवारीय चर्चा मंच....चर्चा अंक:1492" पर भी रहेगी...!!!
    - मिश्रा राहुल

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. राहुल, तहे दिल से शुक्रिया , दोस्त

      हटाएं
  5. बहुत्त सुन्दर गुद्गुदानी वाली रचना १
    मकर संक्रान्ति की शुभकामनाएं !
    नई पोस्ट हम तुम.....,पानी का बूंद !
    नई पोस्ट बोलती तस्वीरें !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पोस्ट पर आने का आपका धन्यवाद, कालीपद बाबू

      हटाएं
  6. हर कहीं तुम ही तुम तो नज़र आते हो ...
    लाजवाब ख़्वाब की तरह ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत शुक्रिया आपका जो आपको मेरी ' यादें ' पसंद आई, दिगंबर जी |

      हटाएं
  7. बहुत खूब..सुंदर रचना
    हिमकर श्याम
    http://himkarshyam.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपार धन्यवाद, हिमकर श्याम जी

      हटाएं
  8. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Kailash Sharma ji, बहुत शुक्रिया आपका जो मेरी रचना पसंद आई ,

      हटाएं
  9. बस तुम ही तुम हो तुम ही तुम हो और ये दिल........

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतनी प्रेम भरी बातें....शुक्रिया आशा जी!

      हटाएं