सोमवार, 29 जुलाई 2013

जैसे कोई किरदार

ज़ेहन में जुस्तजू
झीनी सी तृषा लिए …. 
कैसे कैसे नाजुक मोड़ 
कभी सावन भादों में सूखे रहना 
तो कभी बेचारा बेरंग फागुन 
ऊबड़ खाबड़ हो 
या बीजुरी सी जगमग, 
कब मैं समाती चली गई …
होके बेक़रार 
जैसे कहानी की कोई किरदार | 
जैसे कहानी की कोई किरदार ||  

अवहेलित हुई 
व्यथित हुई 
दे न सकी दलील सही ...
कतरा कतरा 
बावड़ी मेरी 
सकुचाती रही 
सिमटती रही 
कब मैं लहराती चली गई … 
होके बलिहार 
जैसे कहानी की कोई किरदार | 
जैसे कहानी की कोई किरदार ||

सुलग रही हैं तमन्नाऐ, 
पिघल रही धडकनों की चादर 
फिरकनी बन 
फिरती रही... 
कितने गिरह 
कितनी चुप्पी 
कब मैं ढाकती चली गई …   
डूबके बारम्बार 
जैसे कहानी की कोई किरदार | 
जैसे कहानी की कोई किरदार ||  

-  निवेदिता दिनकर 

14 टिप्‍पणियां:

  1. इस कहानी की किरदार को अभिवादन ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शिखा, देरी के लिए क्षमा, तुम्हारा हार्दिक आभार |

      हटाएं
  2. नियति की लिखी कहानी के किरदार ही तो हैं हम सब...
    बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अनु, ऐसे ही स्नेह बनाये रखना … दिल से शुक्रिया

      हटाएं
  3. वाह ,लाजवाब , ढेरो शुभकामनाये निवेदिता जी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Shorya, रचना आपको पसंद आई, जानकार बहुत प्रसन्नता हुई , धन्यवाद

      हटाएं
  4. हम ही जीते हैं इन सभी किरदारों में ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच कहा आपने, दिगम्बर जी| यूँ ही आते रहिएगा, जी शुक्रिया

      हटाएं
  5. atyant sundar shabdon se sajaya hai apne.....wah

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Ana जी, आप पहली बार पोस्ट पर आई, बहुत अच्छा लगा, शुक्रिया| देरी के लिए क्षमा ...

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. आपकी स्नेहमय बाते , मुझे बहुत भायी, आभार आपका, आशा जी ...

      हटाएं
  7. बहुत बढ़िया प्रस्तुति हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं