शनिवार, 13 अप्रैल 2013

न आने दू






न आने दू तुम पर कोई आंच 
चाहे हो कालनिशा सी रात 
हो  भभक भवजाल 
या फिर रुग्ण कराल 
कटाक्ष का  घाव 
या सांघातिक नियति 
वायदा ऐ लब का
समरभूमि सी आहुति । 

अहर्निश की बटोही 
तासीर इतना कि 
छलावा  या अकिंचनता
झंझावत या शठता 
विवशता या शत्रुता  
बनके सनाह 
रहो तुम भास्वरता 
आयुष्मान 
अयाचकता  ॥   

- निवेदिता दिनकर 

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूबसूरत . बहुत स्तरीय कविता. बधाई आपको.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नीरज, तुम्हारे आशीर्वचन ने मुझे दोबारा उत्साहित किया है .....वर्ना मैं तो समझ बैठी थी कि मेरी रचना ध्यान देने के काबिल ही नहीं । तहे दिल से शुक्रगुज़ार ।

      हटाएं
  2. निवेदिता : उत्कृष्ठ अभयगान. भाषा जितनी सहज होगी उतनी रचना जनाभिमुख होगी-

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. Raju, तहे दिल से शुक्रिया । आपका कमेंट सर आँखों पर | ऐसे ही ब्लॉग पर पधारते रहिये और हमारा मार्गदर्शन करते रहिये .....

      हटाएं