गुरुवार, 15 जनवरी 2015

स्पर्श





एक अजीब सा रूहानी रूमानी एहसास।
दबी दबी ढकी ढकी।
सड़को पर चलते आहटों की आवाज़।
दूर जलती मद्धिम रौशनी। 
बारिश की बूंदो से 
उजली चमकती पत्तियाँ … 
और 

स्पर्श करते उष्ण हाथ।

- निवेदिता दिनकर 
 १४/०१/२०१५ 

तस्वीरों  को आज शाम क़ैद करते वक़्त मन को स्पर्श करते कुछ यूँ ख्याल  … 
लोकेशन - मेरे घर के सामने   


6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (16.01.2015) को "अजनबी देश" (चर्चा अंक-1860)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत शुक्रिया राजेंद्र जी ... उत्साह वर्धन के लिए|

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर
    मकरसंक्रान्ति की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. दिली शुक्रिया Pratibha जी एवं शुभकामनाये आपके आने वाले हर दिन के लिए ... :)

      हटाएं