गुरुवार, 10 जुलाई 2014

तुम्हारी बातों में

 तुम्हारी मीठी मीठी बातों में 
इतना रस घुला हुआ,
मानों, बन जाती मैं मिट्टी 
सौंधी तरावट सी  …  
           
           
तुम्हारी बहकी बहकी बातों में 
इतना जादू भरा हुआ,
और बन जाती मैं छटपटी 
लीन विक्षिप्ता सी …      

           
तुम्हारी बाँकी तिरछी बातों में 
इतना तंज भरा हुआ 
फिर बन जाती मैं परिधि 
आकाशगंगा आकृति सी  … 

- निवेदिता दिनकर    

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11.07.2014) को "कन्या-भ्रूण हत्या " (चर्चा अंक-1671)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए तहे दिल से शुक्रगुज़ार …आदरणीय राजेंद्र कुमार जी

      हटाएं
  2. गागर में सागर, कविता कहु की लघु कविता थोड़ा सा भ्रम है...बहुत सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अभिषेक जी, शुक्रिया आपका मार्ग दर्शन हेतु ...

      हटाएं
  3. खूबसूरत अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप के स्नेह से मन प्रफुल्लित हो गया धन्यवाद, Amrita Tanmay जी

      हटाएं